Dil Ki Kalam Se | Shayari Dosti Love Sad02:49

  • 0
Published on January 12, 2018

Title:

Dil Ki Kalam Se | Shayari Dosti Love Sad

Lyrics:

यूँ तो दुनिया के सारे गम
हंस के मैं ढो लेता हूँ,
पर जब भी आपकी याद आती है
मैं अक्सर रो देता हूँ।

मार-मार के पत्थर को
एक जौहरी हीरा बनाता है,
आपकी डांट का मतलब हमको
आज समझ में आता है।

हाँ मैं खुश था उस बचपन में
जब आपके कंधे पर बैठा था,
मगर बहुत रोया था जब
मेरे कंधे पर आप थे।

हर पल अहसास होता है
आप यहाँ ही हों जैसे,
काश ये हो जाये मुमकिन
मगर ये मुमकिन हो कैसे?

गिर-गिर कर आगे बढ़ता था जब मैं बचपन में
ऊँगली पकड़ कर चलना सिखाया
और पढ़ा लिखा कर बड़ा किया,
याद है मुझे आपने अपनी कई ख्वाहिशें भुला कर
मेरी हर जरूरत को पूरा कर मुझे
मेरे पैरों पर खड़ा किया।

मुस्कुराता हुआ हर चेहरा अच्छा लगता है,

चेहरे का नूर ही कुछ अलग सा लगता है,

लोग कहते है कि मुस्कान हर दर्द को छिपा लेती है,

वही मुस्कुराहट किसी की खुशी की वजह बन जाती है,

किसी के जीवन में नई आशाओं का संचार करती है,

किसी के जीवन से दुखों का नाश करती है,

चेहरे पर मुस्कान की खाशियत ही यही है।

अपनों के चहरे की मुस्कान सूकून देती है,

चिन्ताओं से मुक्ति का अहसास देती है,

पूछ ले जरा कोई मुस्कान के साथ तकलीफ आपकी

तो उस मायूसी से भरे संसार में नए हौसलों को उड़ान देती है।

किसी मासूम बच्चे के चहरे की मुस्कान,

दिल में जीने की नई उमंग जगाती है,

कह दे कोई मुस्कुराकर साथ हूँ मैं तेरे हर पल,

तो वो मुस्कान अकेलेपन के डर को भी दूर कर जाती है।

इस नतीजे में पहुँचने पर बड़ी देर लगी मुझे.. तुझसे अच्छे तो बहुत हैं.. पर कोई तुझसा नहीं..

जिसके लफ़्ज़ों में हमें अपना अक्स मिलता है.. बड़े नसीब से ऐसा कोई शख़्स मिलता है..

तुमसे कितना प्यार है दिल में उतरकर देख लो ना यकीं आए तो फिर दिल बदलकर देख लो

 

Enjoyed this video?
Dil Ki Kalam Se Hindi Love Shayari Hindi Love Shayari
"No Thanks. Please Close This Box!"