Gum Uthane Ke Liye Main To Jiye Jaunga | Shayari Dosti Love Sad02:09

  • 0
Published on January 1, 2018

Title:

Gum Uthane Ke Liye Main To Jiye Jaunga | Shayari Dosti Love Sad

Lyrics:

मैं प्यार करता रहूंगा…

लिपट जा आज यूँ तरस के
न जाने फिर मेरा साथ हो न हो
जी ले ये लम्हे मेरे साथ जी भर के
कल फिर हयात हो न हो

कहीं वो आ के मिटा दें न इंतिज़ार का लुत्फ़

कहीं क़ुबूल न हो जाए इल्तिजा मेरी

मदहोश हो जाऊं तेरे प्यार में इस तरह,
कि होश भी आने की इजाज़त मांगे !

” हर इक बात पे यूं जान न अपनी गवां सनम.. हम कहने को भी बहुत कुछ कहा किए हैं.. ”

“किसी ने युं ही पुंछ लिया हमसे…
की दर्द की किमत क्या हैं…
हमने हंसते हुये कहां…
हमने हंसते हुये कहां…
पता नहीं, #कुछ अपने मूफ़त मैं दे जाते हैं…!”

Shayari Dosti Love Sad

हमेशा तारीफ की मेरे लिखे की, आलोचना कभी नही,
तेरी खुशामदी मोहब्बत ने अच्छा कवि बनने न दिया..

“ना मैं बदला…
ना मेरी फितरत…
मैं प्यार करता रहूंगा…
चाहे तू कितनी भी करले नफरत…!”

Basti ke sabhi loag salaamat hain toh ‘Mohsin’
Aawaaz koi apne siwa kyun nahin aati?

Mera kya haal hai tere bina kabhi dekh toh le
Jee raha huun tera bhula hua waada ban kar…

उसे भूल कर जिया तो क्या जिया ,
दम है तो उसे पाकर दिखा ,
लिख पथरों पर अपनी प्रेम कहानी ,
और सागर को बोल ,
दम है तो इसे मिटाकर दिखा.

Shayari Dosti Love Sad

जहाँ याद न आये तेरी वो तन्हाई किस काम की;
बिगड़े रिश्ते न बने तो खुदाई किस काम की;
बेशक़ अपनी मंज़िल तक जाना है हमें;
लेकिन जहाँ से अपने न दिखें, वो ऊंचाई किस काम की।

उलझी शाम को पाने की ज़िद न करो;
जो ना हो अपना उसे अपनाने की ज़िद न करो;
इस समंदर में तूफ़ान बहुत आते है;
इसके साहिल पर घर बनाने की ज़िद न करो..

अंदाज़ा लगा लेते हैं सब दर्द का मेरे;
मुस्काते हुए चहरे का नुक़्सान यही हैं;
बहक जाती हैं तक़दीरें इश्क का मुरीद होकर;
सिर्फ़ दर्द से रिश्ता कोई शौक़ से नहीं करता।

 

Enjoyed this video?
Shayari Dosti Love Sad
"No Thanks. Please Close This Box!"