MaiN ItNi DooR ChaLa JaaoNga TuJhE YaaD Bhi Na AaoNgA | Shayari Dosti Love Sad03:34

  • 0
Published on January 12, 2018

Title:

MaiN ItNi DooR ChaLa JaaoNga TuJhE YaaD Bhi Na AaoNgA | Shayari Dosti Love Sad

Lyrics:

तेरे साथ मुझे जन्नत का एहसास होता है
जब भी मेरे हाथों में तेरा हाथ होता है,
इक बेचैनी सी रहती है तेरे बिना
अब तेरे ही ख्यालों में मेरा हर जज़्बात होता है।

मेरी जिंदगी में ये जो तेरी आहट है
इसी वजह से मेरे चेहरे पे मुस्कराहट है,
ये सुन कर दिल को राहत है
कि तुम्हें भी मेरी चाहत है

मंजिले उन्हीं को मिलती हैं
जो जिंदगी रास्तों में काटते हैं,
अपनी खुशियां दांव पे लगा
वही खुशियां दूसरों में बांटते हैं।

कोशिशें जारी हैं मेरी कि
कभी तो उस खुदा का
मुझ पर करम होगा,
बनाना है मुझे वजूद अपना
तभी दूर सबका
भरम होगा।

MaiN ItNi DooR ChaLa JaaoNga TuJhE YaaD Bhi Na AaoNgA | Shayari Dosti Love Sad

घोल रखा था उन्होंने अल्फ़ाज़ों में
लेकिन फिर भी हमें
उनकी बेवफाई पर भी प्यार आया,
न जाने कैसी कसक थी दिल में मेरे
जिसको हमने दिलो जान से अपना बनाया,
उसके लिए यारों
मैंने खुद को इख़्तियार पाया।

न कोई दुआ न दवा असर करेगी,
मेरी उम्मीद भी पल-पल मरेगी
वो चाहे जितना दावा करे
खुद को सच्चा बताने का,
जो खतायें उसने की है
वो उसकी सजा भरेगी।

तू हंस कर लगा
मुझ पर तोहमत
ए ज़माना,
मगर मेरी मौत के बाद
एक दफा उसको
जरूर आज़माना।

राम रहीम की धरती है ये, यहाँ आरती और अजान।
आपस में सब मिलकर रहें, सबका करते सम्मान।।

आँख अश्को का समंदर है तो है
वक्त के हाथों में खंजर है तो है

MaiN ItNi DooR ChaLa JaaoNga TuJhE YaaD Bhi Na AaoNgA | Shayari Dosti Love Sad

मैंने कब माँगी खुदा तुझसे ख़ुशी
दर्द ही मेरा मुकद्दर है तो है

फूल कुछ चाहे थे तुझसे बागबां
हाथ में तेरे भी पत्थर है तो है

थक गया हूँ अब तो सोने दो मुझे
सामने काँटों का बिस्तर है तो है

मेरे संग भी है मेरी माँ की दुआ
तू मुकद्दर का सिकंदर है तो है

तूने ही कब घर को घर समझा ‘अनिल’
घर से जो तू आज बेघर है तो है

Enjoyed this video?
MaiN ItNi DooR ChaLa JaaoNga TuJhE YaaD Bhi Na AaoNgA Hindi Love Shayari Hindi Love Shayari
"No Thanks. Please Close This Box!"