Mujhe Raat Se Darr Lagta Hai | Shayari Dosti Love Sad02:15

  • 0
Published on January 1, 2018

Title:

Mujhe Raat Se Darr Lagta Hai | Shayari Dosti Love Sad

Lyrics:

दिल जलाओ या दिए आँखों के दरवाज़े पर

कहीं रहमतें कहीं रंजिशें कहीं…
कहीं बस उम्मीदें जहान है…

मंजिल चाहे कितनी भी उँची क्यों ना हो
रास्ता हमेशा पैरों के नीचे होता है…..!!

“एक तो आदमी रब के दर पर दिखाई देता हैं…
या मयखानो मैं…
पता नहीं जिंदगी गुजर जाती हैं ऐसेही…
फिर भी इंसान की आरुजुये खत्म ना होती…!”

ग़ुज़री तमाम उम्र, उसी शहर में जहाँ,

वाक़िफ़ सभी तो थे मगर पहचानता कोई न था

मै वो सेहरा जिसे पानी की हवस ले डूबी,

तु वो बादल जो कभी टूट के बरसा ही नहीं

चुप थे, तो चल रही थी ज़िंदगी लाजवाब…
ख़ामोशियाँ बोलने लगीं तो बवाल मच गया !

दिल जलाओ या दिए आँखों के दरवाज़े पर,
वक़्त से पहले तो आते नहीं आने वाले

आख़िर तुम भी उस आईने की तरह ही निकले… जो भी सामने आया तुम उसी के हो गए…!!

ढलता साल ज़माना ढलता पिघलता रहेगा..
प्रगतिपथ पर आर्य चलता रहेगा..

सदा से है वो सदा वो रहेगा..
यहां भी रहता वो वहां भी रहेगा..

सूरज से वो अक्सर आंख मिला..
कहता मिलेगा..

 

दुनिया की भीड़ में तुझे याद कर सकूँ कुछ पल ,
अजनबी राहों की तरफ कदम मोड़ता हूँ।

 

हुस्न-ए-बेनजीर के तलबगार हुए बैठे हैं,
उनकी एक झलक को बेकरार हुए बैठे हैं,
उनके नाजुक हाथों से सजा पाने को,
कितनी सदियों से गुनाहगार हुए बैठे हैं।

 

छुप-छुप के एहतमाम में सफ़र का पता चला,
वो जुदा हो गया तब उसके हुनर का पता चला,
जब एक-एक फूल उड़ा ले गई हवा,
तब जाकर बहार को मेरे घर का पता चला।

  • कितने चेहरे हैं इस दुनिया में,
    मगर हमको एक चेहरा ही नज़र आता है,
    दुनिया को हम क्यों देखें,
    उसकी याद में सारा वक़्त गुज़र जाता है।

हर शख्स को दिवाना बना देता है इश्क
जन्नत की सैर करा देता है इश्क
दिल के मरीज हो तो कर लो महोब्बत
हर दिल को धड़कना सिखा देता है इश्क !!!

एक सुकून सा मिलता है….तुझे सोचने से भी….
फिर कैसे कह दूँ…मेरा इश्क़ बेवजह सा है….

बहुत दिनों बाद तेरी महफ़िल में कदम रखा है ,
मगर नजरो से सलामी देने का तेरा अंदाज़ नही बदला

Enjoyed this video?
d6V3hosGdZs
"No Thanks. Please Close This Box!"