Mujhe Teri Mohabbat Ka Sahara | Shayari Dosti Love Sad03:38

  • 0
Published on January 12, 2018

Title:

Mujhe Teri Mohabbat Ka Sahara | Shayari Dosti Love Sad

Lyrics:

पत्थर की मूरत को, लगते हैं छप्पन भोग दो रोटी के वास्ते, मर जाते हैं लोग!!

धूल हालात को हर बार चटाई मैने, मुक्कदर तो नहीं पर जिगर रखता हू मै !!

Ishq ashiqi me kuch log chahta h, zakham batta h. Unhe dard baatta h tod deta h khwab saare.. kar de barbaad sa..!

बात हर कोई सीरत की करता है । मगर मरता हर कोई सूरत पे है ।।

समय दिखाई नही देता । लेकिन बहुत कुछ दिखा जाता है।।

कुछ गलतियों की माफी तो मिल जाती है । लेकिन अफसोस जिंदगी भर रहता है

Shayari Dosti Love Sad

बहुत ढूंढा उन्हें पूजा, श्लोक और स्तुति में.. अंत में, ईश्वर मिला.. प्रेम, स्नेह, सेवा और सहानुभूति में..

Don’t believe what your eyes are telling you. All they show is limitation. Look with your understanding. Find out what you already know and you’ll see the way to fly.

 

दोस्ती है अनमोल रत्न;

नहीं तोल सकता जिसे कोई धन,

सच्ची दोस्ती जिसके पास है;

उसके पास दौलत की भरमार है,

न ही जीत न ही कोई हार है,

दोस्त के दिल में तो बस प्यार ही प्यार है।।

भटके जब भी दोस्त संसार के मोहजाल में,

खींच लाता है सच्चा दोस्त उसे अच्छाई के प्रकाश में,

छोड़ देता है जग सारा जब मुश्किल भरी राह में,

सच्चा दोस्त साथ देता है तब जिंदगी की राह में।।

बने चाहे दुश्मन क्यों न जमाना सारा,

सच्चा दोस्त साथ देता है सदा हमारा,

दोस्त के लिए कुर्बान होता है जीवन सारा,

हर मुश्किल में बनता है वो सहारा।।

सच्ची दोस्ती को वक्त परखता हर बार है,

वक्त की हर परीक्षा से हसते हुए पास करना ही दोस्ती की पहचान है,

दुनिया की किसी शौहरत की न जिसे दरकार है,

सच्चा दोस्त रखने वाला संसार में सबसे धनवान है।।

Shayari Dosti Love Sad

Enjoyed this video?
Mujhe Teri Mohabbat Ka Sahara Hindi Love Shayari Hindi Love Shayari
"No Thanks. Please Close This Box!"