Romantic Love Shayari | सच्चा प्यार शायरी | हिंदी शायरी विडियो03:10

  • 0
Published on February 12, 2018

Romantic Love Shayari | सच्चा प्यार शायरी | हिंदी शायरी विडियो

प्यार किसी को करना लेकिन कह कर उसे बताना क्या अपने को अर्पण करना पर और को अपनाना क्या

गुण का ग्राहक बनना लेकिन गा कर उसे सुनाना क्या    मन के कल्पित भावों से औरों को भ्रम में लाना क्या

ले लेना सुगंध सुमनों की तोड उन्हें मुरझाना क्या    प्रेम हार पहनाना लेकिन प्रेम पाश फैलाना क्या

त्याग अंक में पले प्रेम शिशु उनमें स्वार्थ बताना क्या     दे कर हृदय हृदय पाने की आशा व्यर्थ लगाना क्या

 

यूं ही कुछ मुस्काकर तुमने     परिचय की वो गांठ लगा दी!

था पथ पर मैं भूला भूला          फूल उपेक्षित कोई फूला

जाने कौन लहर थी उस दिन     तुमने अपनी याद जगा दी

कभी कभी यूं हो जाता है      गीत कहीं कोई गाता है

गूंज किसी उर में उठती है     तुमने वही धार उमगा दी

जड़ता है जीवन की पीड़ा   निस्-तरंग पाषाणी क्रीड़ा

तुमने अन्जाने वह पीड़ा    छवि के शर से दूर भगा दी

दोनों ओर प्रेम पलता है   सखि, पतंग भी जलता है हा! दीपक भी जलता है!

सीस हिलाकर दीपक कहता       ‘बन्धु वृथा ही तू क्यों दहता?’

पर पतंग पड़ कर ही रहता      कितनी विह्वलता है                                                                                                                                           दोनों ओर प्रेम पलता है

बचकर हाय! पतंग मरे क्या?     प्रणय छोड़ कर प्राण धरे क्या?

जले नही तो मरा करे क्या?    क्या यह असफलता है!                                                                                                                                       दोनों ओर प्रेम पलता है।

 

जो तुम आ जाते एक बार

कितनी करूणा कितने संदेश    पथ में बिछ जाते बन पराग                                                                                                                               गाता प्राणों का तार तार       अनुराग भरा उन्माद राग                                                                                                                                   आँसू लेते वे पद पखार      जो तुम आ जाते एक बार

हँस उठते पल में आर्द्र नयन      धुल जाता होठों से विषाद                                                                                                                                   छा जाता जीवन में बसंत     लुट जाता चिर संचित विराग                                                                                                                             आँखें देतीं सर्वस्व वार     जो तुम आ जाते एक बार

 

 

Enjoyed this video?
"No Thanks. Please Close This Box!"